Friday, 11 September 2015


अपनी आँखों का समन्दर पिया है मैंने !
दाग दामन में नहीं दिल पे लिया है मैंने !!

खामोश मोहब्बत को दम तोड़ने भी दो !
ये जुर्म कुछ ऐसा संगीन किया है मैंने !!

क्या लेगा वो और भी इम्तिहान मेरा !
दिल; जिगर; जाँ  सब ही दिया है मैंने !!

फिक्र-ए-यार से जी का उकताना कैसा !
हर उस लम्हे को दिल में सिया है मैंने !!

मौत भी मुझसे मुत्मईन हो गई तन्हा !
ज़िन्दगी इस सलीक़े से जिया है मैंने !!

- " तन्हा " !!
12-09-2015



apni aakhon ka samandar piya hai maine !
dag damn me nahi dil par liya hai maine !!

khamosh mohabbat ko dam todne bhi do !
ya zurm kuch aisa sangeen kiya hai maine !!

kya lega wo or bhi imtehaan mera !
dil ; jigar ; jaan sab hi diya hai maine !!

fikr-e-yaar se jee ka uktana kaisa !
har us lamhe ko dil me siya hai maine !!

maut bhi mujhse mutmaeen ho gai tanha !
zindgi is saleeke se jiya hai maine !!

- " tanha " !!
12-09-2015