Saturday, 15 August 2015

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!



दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!
        
याद हैं अपने संगी-सहेली वो छुटटी वो गहमा-गहमी !   
ईद बक़रीद हो या होली दिवाली या फिर हो राखी भी !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!

मेरे कानों में अज़ान आरती की भी है आवाज़ गूँजती !
नहीं भूलती आज भी यारों वो गणतन्त्र की झाकीं भी !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!   
      
वो गेंद तड़ी वो छुपा छुपाई सबके संग वो चोर सिपाही      
अपने घर की धमा चौकड़ी और खेल खिलौने साथी भी !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!

बरसात हो या हो गर्मी या फिर सर्दी की उन रातों में !
देर रात में दूर से आती वो बेख़ौफ़ आवाज़ लाठी की !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!

बैठ के " तन्हा " आज यहाँ भी नहीं भूलती हैं मुझको !
सावन की रिम झिम बारिश सी माँ बाप की आँखी भी !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!

भर आया आज दिल अपना नहीं भाती अब कॉफी भी !
फिर कभी सुनाएगा तन्हा अपनी यादें पुरानी बाकी भी !!

दूर देश में बैठ वतन की याद आती है माटी भी !!!

- " तन्हा " !!
24-07-2014

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

yaad hain apne sangi-saheli wo chutti wo gahma-gahmi !
id bakreed ho ya holi diwali ya phir ho raakhi bhi !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

mere kano men azan aarti kibhi hai aawaz gunjti !
nahi bhulti aaj bhi yaron wo gadtantr ki jhaki bhi !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

wo gend tadi wo chupa chupai sabke sang wo chor sipahi !
apne ghar ki dhama chokdi or khel khilone saathi bhi !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

barsat ho ya ho garmi ya phir sardi ki un raaton me !
der raat men door se aati wo bekhouf aawaz lathi ki !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

baith ke " tanha " aaj yahan bhi nahi bhulti hai mujhko !
sawan ki rim jhim baarish si maa baap ki aankhi bhi !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

bhar aaya aaj dil apna nahin bhhaati ab coffee bhi !
phir kabhi sunayega tanha apni yaade purani baaki bhi !!

door desh men baith watan ki yaad aati hai mati bhi !!!

- " tanha " !!
24-07-2014